महोत्सव में बॉलीवुड रेट्रो इवनिंग और फ्लेमेंको–कथा और पुंग चोलम होंगे आकर्षण का केन्द्र

मुंबई: अपने 50 वें वर्ष में, एक बार फिर दो नई प्रस्तुतियों के साथ एनसीपीए ने “स्पेक्ट्रम 2019 – ए फेस्टिवल ऑफ डांसेस फ्रॉम अराउंड द वर्ल्ड” के दूसरे संस्करण के साथ जोरदार वापसी की है। इस फेस्टीवल की शुरुआत 8फरवरी को बॉलीवुड क्लासिक्स और 16 फरवरी को स्पेन के फ्लेमेंको की एक शाम और मणिपुर के पुंग चोलम (ड्रम नृत्य) के साथ शाम 6:30 बजे से एनसीपीए के एक्सपेरिमेंटल थिएटर में होगी।इस कार्यक्रम में झेलम परांजपे, संदीप सोपारकरऔर अदिति भागवत सहित कई दूसरे प्रसिद्ध भारतीय कलाकारों द्वारा भी प्रदर्शन किया जाएगा।

इस आयोजन की शुरूआत 8 फरवरी, 2019 को बॉलीवुड रेट्रो इवनिंग के साथ होगी, जिसमें झेलम परांजपे और स्मितालय, संदीप सोपारकर और ट्रूप और टीना तांबे एंड ट्रूप अपनी-अपनी प्रस्तुति देंगे। गौरतलब है कि झेलम परांजपे, मुंबई मेंओडिसी के सबसे अग्रणी कलाकार होने के साथ ही केलुचरण मोहापात्रा के वरिष्ठ शिष्य हैं। वे मुम्बई के प्रमुख ओडिसी संस्थाओं में से एक स्मितालय के संस्थापक भी हैं। परांजपे ओडिसी मार्गम के पीछे की विचार प्रक्रिया का पालन करते हुएबॉलीवुड गीतों के माध्यम से ओडिसी के आत्मा से भक्ति तक के सफर को प्रस्तुत करेंगे। संदीप सोपारकर की बात करें तो वे एक ऐसे भारतीय लैटिन और बॉलरूम डांसर, बॉलीवुड कोरियोग्राफर, अभिनेता और स्तंभकार हैं, जिन्होंने संयुक्तराज्य अमेरिका से विश्व पौराणिक कथाओं में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की है। इस मौके पर वे बॉलीवुड के बेहतरीन गीतों की प्रस्तुति करेंगे। वहीं जयपुर शैली की कथक कलाकार टीना तांबे फिल्मों में इस्तेमाल की गई नृत्यों की शास्त्रीय रचना प्रस्तुत करेंगी।

महोत्सव का समापन 16 फरवरी, 2019 को, अदिति भागवत और कुणाल ओम द्वारा फ्लेमेंको-कथा, मणिपुर के ड्रमर भुवनेश्वर सिंह और ट्रूप द्वारा पुंग चोलम की प्रस्तुति से होगा। वे इस दौरान करीब 90 मिनट की प्रस्तुति देंगे। फ्लेमेंको-कथा दोविषयों शुद्ध और संयुक्त मिश्रण है। दोनों ही शैलियों में पद ताल फ्लेमेंको और कथक में मूल रूप से ओवरलैप होते हैं, और दोनों नृत्य शैलियों के लयबद्ध पैटर्न और बारीकियों का निर्माण करते हैं। वहीं पुंग चोलम एक उच्च परिष्कृत शास्त्रीय नृत्य है,जिसमें एक हल्की ध्वनि से शुरूआत होने के साथ ही क्लाइमेक्स तक जोरदार ध्वनि के मॉड्यूलेशन की विशेषता है। यह मणिपुर के पारंपरिक ढोल वादकों द्वारा प्रस्तुत किया जाएगा, जो अपने पारंपरिक ढोल को बजाते हुए कलाबाजियां करेंगे। उनकाप्रदर्शन तंचाप पर आधारित होगा स्पेक्ट्रम, के संबंध में एनसीपीए के प्रोग्रामिंग – डांस प्रमुख स्वप्नोकल्पा दासगुप्ता ने कहा, “पिछले साल मिली जबरदस्त प्रतिक्रिया से उत्साहित होकर इस बार इसे ज्यादा बड़े और रोमांचक तरीके से प्रस्तुत करने की तैयारी है। इस महोत्सव में भारतीयशास्त्रीय और पश्चिमी नृत्य के मिश्रण की प्रस्तुतु की जाएगी। कार्यक्रम में जाने-माने कलाकारों के आगमन से हम खासा उत्साहित हैं। यह महोत्सव पूरी दुनिया में विभिन्न नृत्य रूपों की मान्यता और महत्व को सूचित करेगा। हमारा मुख्य लक्ष्य दर्शकों केबीच सांस्कृतिक संपर्क को बढ़ावा देना है।उन्होंने कहा कि इस वर्ष स्पेक्ट्रम प्रसिद्ध कलाकारों द्वारा उत्कृष्ट प्रदर्शन के साथ एक असाधारण अनुभव देने का वादा करता है, जो शहर की मनोरंजन और संस्कृति में गौरवशाली बढ़ोतरी करेगा।

Re